Uncategorized

उनके दर पर आखिर मेरी दुआ कबूल हुई

@ बृजेश गिरि…

कुछ तो लोग कहेंगे…

मुझे हर हाल में जीने का हुनर आ ही गया,
जिसे मैं ढूँढ रहा था वो नजर आ ही गया।
जिन्दगी भर मैं रहा इक अंजान सफर में,
आखिरकार थक-हार के घर आ ही गया।
मेरे रकीब ने मुझे अपनी रहनुमाई दे दी,
मेरे नसीब में आखिर वो बशर आ ही गया।
उनके दर पर आखिर मेरी दुआ कबूल हुई,
मेरी दुआओं में आखिर वो असर आ ही गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *


Notice: ob_end_flush(): failed to send buffer of zlib output compression (1) in /home2/apnamaui/public_html/wp-includes/functions.php on line 5373

Notice: ob_end_flush(): failed to send buffer of zlib output compression (1) in /home2/apnamaui/public_html/wp-includes/functions.php on line 5373