अपना जिला

समूहन भ्राम्यमान नाट्य समारोह’ की दूसरी संध्या में एम्बियांस प्रस्तुति में यूपी के लोक गीत का गायन सनी दुलरूआ ने किया

मऊ, जनपद की कला संस्कृति को प्रोत्साहन और विस्तार प्रदान करने के उद्देश्य से आयोजित की जा रही ‘समूहन भ्राम्यमान नाट्य समारोह’ की दूसरी संध्या में एम्बियांस प्रस्तुति में यूपी के लोक गीत का गायन सनी दुलरूआ ने किया और दर्शकों की जमकर वाह वाही पायी। इस संध्या के मुख्य अतिथि पुलिस अधीक्षक मऊ, ललित कुमार सिंह, विशिष्ट अतिथि डॉ0 पी एल गुप्ता, अध्यक्ष आइ एम ए, डॉ0 शिवकुमार सिंह, उमेन्द्र सिंह खेल प्रशिक्षक रहे। तत्पश्चात समारोह की आज की नाट्य प्रस्तुति ‘‘अजब गजब इंसाफ इहा कै’’ का प्रभावशली मंचन हुआ। उन्नीसवी शताब्दी के अंतिम वषों में इंशाअल्ला खां की फारसी बहुल, राजा लक्ष्मण प्रसाद सिंह की संस्कृत बहुल और लल्लू लाल की ब्रज मिश्रित खडी बोली से उबार कर हिन्दी की मूल अस्मिता को प्रतिष्ठित करने वाले भारतेन्दु हरिश्चन्द्र जी ने हिन्दी गद्य की सभी विधाओं की शुरूआत कर प्रगति का मार्ग प्रशस्त किया। इन्ही भारतेन्दु बाबू की आज से सवा सौ वर्ष पूर्व की एक रचना इस नाटक का मूल आधार है, जो आज भी समीचीन है। राजनीतिक सत्ता और शासन व्यवस्था पर यह अनूठा व्यंग्य है।

समाज की विभिन्न व्यवस्थाओं पर हास्यपूर्ण माहौल में करारा व्यंग्य किया गया है और इस बात की ओर संकेत किया गया है कि आदमी में विवेक न हो तो उसे आदमी कहलाने का हक नही है। अतः नाटक विवेकी इंसान बनने का संदेरू देती है। भोजपुरी भाषा की मिट्टी की खूश्बु और आधुनिक तथा लोक रंगो से सजी संगीतमय प्रस्तुति जो लोक और विभिन्न रंग उपकरणों का सृजनात्मक संगम है। इन्ही लोक और रंग परम्पराओं से सजी अपनी दुनिया की कहानी रंग खिलौनों की जुबानी प्रस्तुत करने में राजकुमार शाह अपनी निर्देशकीय प्रभाव छोडने में अत्यंत सफल रहे। नाटक में महात्मा की भूमिका आशीष सिंह, गोवर्धन दास अजीत पटेल, नारायण दास सुजीत प्रजापति, चूरनवाला सत्यम कुमार, अखबार वाला अवनीश यादव, सब्जीवाली रिम्पी वर्मा, कविता सोनकर, अनीता रूपा कुमारी, मिठाईवाला और कोतवाल रिशीकेश वर्मा, जातवाला दीपक निषाद, बनिया राकेश यादव, राजा हर्षवर्धन गुप्ता, मंत्री शेर सिंह राना, सिपाही के रूप में अवनीश यादव, अनुज मौर्या,दीपक निषाद, फरियादी कविता सोनकर और ठिकेदार की भूमिका में सिद्भार्थ यादव ने सराहना पायी।
मंच पर संगीत अर्जुन टंडन, प्रवीण पाण्डेय का, कॉस्ट्यूम रोजी दूबे का और प्रकाश टोनी सिंह का सफल रहा। नाट्य आलेख राम प्रकाश शुक्ल ‘निर्मोही’ ने लिखा है। प्रॉडक्शन कंट्रोलर साधना सोनकर की भूमिका नाटक को सफल बनाने में सार्थक रही। प्रस्तुति परिकल्पना एवं निर्देशन राजकुमार शाह और रोजी दूबे ने किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *


Notice: ob_end_flush(): failed to send buffer of zlib output compression (1) in /home2/apnamaui/public_html/wp-includes/functions.php on line 5373

Notice: ob_end_flush(): failed to send buffer of zlib output compression (1) in /home2/apnamaui/public_html/wp-includes/functions.php on line 5373