खास-मेहमान

खुशगवार होगा वर्ष 2018, स्वागत करिए नए साल का

श्री श्री रविशंकर ने बताया 10 संकल्प सूत्र…
दिल्ली। आने वाले 2018 में अपने जीवन को ज्ञान, सेवा, संकल्प और उत्सव में बिताईये। वास्तव में हम अपना जीवन पैसा, रिश्ते और प्रतिष्ठा के लिए ही व्यतीत कर देते हैं और इसी भागदौड़ में हम अपना स्वास्थ्य खराब कर बैठते है। लेकिन यदि आप अपना जीवन ज्ञान, सेवा, संकल्प और उत्सव में बिताते हैं तो आप जीवन में स्वतः ही पैसा, प्रतिष्ठा पाते हैं और रिश्ते भी प्रगाढ़ होकर सुधरने लगते हैं। हमारा प्राचीन विरासत में मिला ज्ञान कहता है कि हर एक अच्छे गुण की प्रशंसा करें चाहे वह आपके प्रतिद्वंदी के पास भी क्यों न हो। आईए 2018 में इसे अपनी विचारधारा और कार्यकलाप में लाने का प्रयास करें।
पिछले वर्ष की समीक्षा करें…
पिछले वर्ष में क्या किया, क्या उपलब्धि प्राप्त की, पिछले वर्ष आपके कितने उपयोगी रहे, जब आप पिछले वर्ष की समीक्षा करते हैं तो क्या पाते हैं, अचानक आप पाते हैं कि बीता हुआ वर्ष में मुझसे कुछ छूट गया है। बीता हुआ कल वैसे भी चले जाना है। यह आपके मन से भी निकला जा रहा है। जो आपके चित्त में मंडरा रहा है यादों के रूप में वह भी चला जाएगा। बीते हुए की समीक्षा करते हुए वर्तमान को चेतन्य कीजिए। आप घटनाओं, लोगों की प्रतिक्रियाओं से परे हैं। आप एक ऐसे स्वतंत्र प्रकाश और ज्ञान के पुंज हैं जिन्हे घटनाओं और बाहरी परिवेश का कोई प्रभाव नहीं होता है।
अपनी सीमाओं से परे जाईये…
इस नव वर्ष के पूर्व की बेला में अपनी सीमाओं से परे जाकर उन्हे भी बधाई दीजिए जिनसे आपके संबंध सोहार्द्रपूर्ण नहीं हैं। जीवन विरोधाभास का नाम ही है। यहॉं जो भी रचा-बसा है वह विरोधाभासी होते हुए एक दूसरे के पूरक है। इसलिए इसमें जीना प्रारंभ कीजिए और मुस्कुराईये।
अच्छे कार्यों का संकल्प लीजिए…
जब भी आप संकल्पबद्ध होते हैं तो आप सशक्त होते हैं। यदि आप अपने परिवार के प्रति संकल्पबद्ध है तो पूरा परिवार आपको सहयोग करता है। यदि आप इस समाज के प्रति संकल्पबद्ध होते हैं तो पूरा समाज आपको सहयोग देना प्रारंभ कर देगा। यदि आप ईश्वर के प्रति संकल्पबद्ध हैं तो ईश्वर आपको शक्ति प्रदान करते हैं। यदि आप सत्य के प्रति संकल्पबद्ध हैं तो सत्य आपमें अद्वितीय ताकत भरता है। इसलिए किसी भी अच्छे काम के लिए प्रतिबद्ध हैं तो यह जीवन को एक नई दिशा देता है।
सर्वोच्च उत्साह को बनाए रखें…
उत्साह कर सीधा मतलब होता है सीधे ईश्वर से संबंध। जब आप स्वयं के स्रोत में केन्द्रीत होते हैं आप स्वतः उत्साह से भरपूर होते हैं और जब आप उत्साह में होते हैं तो आपका मन भी वर्तमान में ही होता है।
जीवन में संगीत, ध्यान और समाज सेवा को स्थान दें…
एक संतुलित, स्वास्थ्यवर्धक जीवन के लिए आवश्यक है कि जीवन में संगीत, ध्यान और समाज सेवा को पर्याप्त स्थान मिला हो। योग से तनाव मुक्ति और तंत्रिका तंत्र संतुलन में सहयोग मिलता है। हर दिन ध्यान कीजिए। हर तीन या चार माह में एक बार समय निकालकर मौन और गहरे ध्यान का अनुभव लेना प्रारंभ कीजिए। जीवन से कुछ समय निकालकर समाज में कुछ अच्छा काम करना प्रारंभ करें। इसके बाद आप देखेंगे कि जो भी आपको जीवन में चाहिये वह आपको स्वतः मिलता रहेगा।
उदारता से दान कीजिये…
इस तरह दान कीजिये कि सामने वाले को पता भी न चले कि आपने यह सब किया है। यही उदारता है और यही कर्म की सुंदरता है। हर व्यक्ति में कुछ न कुछ प्रतिभा होती है। आपको बस उन्हे पहचानना हैं और उनका सदुपयोग कीजिए।
याद रखिए कि आप बहुत ही भाग्यशाली हैं…
यह पृथ्वी आपसे प्रेम करती है। इसलिए आपको इसने बनाए रखा है। पृथ्वी का प्रेम इसका गुरूत्वाकर्षण बल है। यह हवा आपको प्रेम करती है। आप जब सो रहे होते हैं तब भी हवा आपकी नाक से होकर आपके फेफडों को संचालित रखती है। कुल मिलाकर पूरी कायनात, दिव्यता आपको गहराई से, आत्मीयता से प्रेम करती है। पिछले वर्ष ने आपको जो सुंदर उपहार दिए हैं उनके बारे में क्षण भर रूक कर सोचें कि मैं किस तरह से इन उपहारों को इस संसार को भलाई में कैसे उपयोग में ला सकता हूॅं।
उत्सव मनाईये…
एक गरीब व्यक्ति नए साल को केवल एक दिन मनाता है। एक समृद्ध व्यक्ति हर दिन इसका उत्सव मनाता है लेकिन एक अति समृद्ध व्यक्ति हर पल इसका उत्सव मनाता है। यह सब आप तब कर सकते हैं जब आप प्रताड़ित या अपराधी की चेतना से बाहर स्वयं को महसूस करते हैं।
असंभव को संभव बनाईये…
हमेशा असंभव के बारे में सोचिए और संभव बनाने का प्रयास कीजिए। हो सकता है आपको कई चुनौतियों का सामना करना पड़े लेकिन यह आप पर है कि आप इन चुनौतियों से कैसे सीख सकते हैं। आपके समक्ष चुनौती आए और आप उसे समस्या की बजाए चुनौती के रूप में ही स्वीकार करते हैं तो फिर देखिये कि आपके जीवन में कितना विकास होता है। आपको चुनौतियों का सामना ज्ञान में रहकर करना है। यही आपके जीवन को उत्साह से भर देगा।
इस नए साल 2018 में आईए संकल्प लें कि हम अंदर से दृढ़ रहेंगे और बेहतर दुनिया बनाने के लिए कार्य करेंगे। वक्तए लोगों को बदल देता है परंतु कुछ लोग होते हैं जो वक्त को भी बदल देते हैं। और आप उनमें से एक हो।
नव वर्ष की शुभकामनाएॅं!!!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *


Notice: ob_end_flush(): failed to send buffer of zlib output compression (1) in /home2/apnamaui/public_html/wp-includes/functions.php on line 5373

Notice: ob_end_flush(): failed to send buffer of zlib output compression (1) in /home2/apnamaui/public_html/wp-includes/functions.php on line 5373