खास-मेहमान

सब का जीवन उज्ज्वल,जगमग, घर-घर हो उजियारा

“दीपावली”-ज्योति-पर्व पर मित्रों को समर्पित!
डॉ० मनोज कुमार चतुर्वेदी की रचना
॰॰॰॰॰॰॰॰॰॰॰॰॰॰॰॰॰॰॰॰॰॰॰॰॰॰॰॰॰॰

गहन तिमिर को दूर करे ज्यों,
दीपक का उजियारा !
करें प्रकाशित हम भी जग को,
यह कर्तव्य हमारा !

शुभ कर्मों की ज्योति जला कर,
सब को सुखी बनाएँ !
सद्विचार, शीतल वाणी से,
सब का मन हर्षाएं !

जीवन से तम-कलुष मिटाएँ,
दुखियों का दु:ख बाँटें !
राग-द्वेष, सब भेद मिटा कर,
जड़ता की जड़ काटें !

दीप-पर्व ना बन जाए बस,
सालाना त्यौहार !
हमें प्रकाशमय करना होगा,
हर आचार-विचार !

पर्यावरण प्रदूषण रोकें,
जीवन स्वस्थ बनाएँ !
अन्तर का सब तमस मिटा कर,
आत्मिक ज्योति जलाएँ !

अन्दर बाहर हो प्रकाशमय,
हो यह यत्न हमारा !
सब का जीवन उज्ज्वल,जगमग,
घर-घर हो उजियारा !!

डॉ० मनोज कुमार चतुर्वेदी
कॉपीराइट सर्वाधिकार सुरक्षित

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *


Notice: ob_end_flush(): failed to send buffer of zlib output compression (1) in /home2/apnamaui/public_html/wp-includes/functions.php on line 5420

Notice: ob_end_flush(): failed to send buffer of zlib output compression (1) in /home2/apnamaui/public_html/wp-includes/functions.php on line 5420